Economics-Quiz-125

1 / 20

पूरक वस्तुओं की माँग को यह भी कहा जाता है?

2 / 20

दो बाजारों के बीच एक सफल मूल्य भेदभाव के लिए उत्पादन की माँग लोच होनी चाहिए-

3 / 20

पूँजीवादी अर्थव्यवस्था में जिस आधर पर कीमतें निर्धारित की जाती हैं, वह हैं?

4 / 20

‘‘अर्थशास्त्र वह है जो होना चाहिए’’ इस वाक्य का आशय है?

5 / 20

पूर्ण आलोच माँग किसके बराबर होती है?

6 / 20

वह सभी वस्तुएँ जिनकी सीमित एवं दुलर्भ आपूर्ति हो उन्हे कहते हैं?

7 / 20

निम्न में किस वस्तु की लोच माँग होती है?

8 / 20

निम्न में से कौन-सा माँग को निर्धारित करने के लिए प्रत्यक्ष कारक नहीं है?

9 / 20

जब मूल्य में भारी परिवर्तन के साथ माँग में परिवर्तन न हो तो वह माँग किस प्रकार की होगी?

10 / 20

यदि निम्न स्तरीय वस्तुओं की कीमत घट जाये, तब उस वस्तु की माँग?

11 / 20

राष्ट्रीय दृष्टिकोण से निम्नलिखित में से कौन-सा समष्टि दृष्टि कोण है?

12 / 20

जब वस्तु की माँग में प्रतिशत परिवर्तन मूल्योें मेें प्रतिशत परिवर्तन से कम होता है तो माँग को कहा जाता है

13 / 20

संसाधनों के अधिक प्रयोग को कहा जाता है- ‘‘कॉमन्स की त्रासदी’’ यह जिसके द्वारा प्रस्तावित किया गया है वह है?

14 / 20

माँग की मूल्य लोच है

15 / 20

निम्नलिखित में से कौन-से क्षेत्र की बचत में सबसे अधिक भागीदारी होती है?

16 / 20

निम्नलिखित में से कौन-सा बुनियादी ढ़ांचा क्षेत्र में सम्मिलित नहीं है?

17 / 20

मूल्य भेदभाव कब सहायक होगा?

18 / 20

निम्नलिखित में से कौन स्वतंत्र भारत की पहली सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनी है?

19 / 20

किस वस्तु की माँग का ऋणात्मक आय लोच और धनात्मक मूल्य लोच होना ऐसी स्थिति में वस्तु …………… होती है।

20 / 20

भारतीय अर्थव्यवस्था को सबसे उपयुक्त ………………… के रूप में वर्णित किया जा सकता है।

Your score is

The average score is 40%

0%